Cryptocurrency क्या है और यह कैसे काम करता है?

Cryptocurrency kya hai? | Cryptocurrency क्या है; और यह कैसे काम करता है?

क्रिप्टो करेंसी क्या है?  के बारे में तो आपने सोशल मीडिया, न्यूज़, जनरल अवेयरनेस की किताबें आदि से कुछ ना कुछ सुना ही होगा। बाजार में क्रिप्टोकरंसी का आगमन जब से हुआ है यह सबसे अच्छा रिटर्न्स देने वाला ऑप्शन बना हुआ है, कभी-कभी क्रिप्टो करेंसी की उछाल शेयर मार्केट की तुलना में ज्यादा होती है, जिसके कारण इसकी लोकप्रियता दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है।

बहुत जल्द ही इसने वित्तीय बाजार में अपनी जगह स्थापित कर ली है। आज के इस आर्टिकल में क्रिप्टो करेंसी क्या है? , क्रिप्टो करेंसी का इस्तेमाल कैसे करें?, क्रिप्टो करेंसी से पैसे कैसे कमाएं? के बारे में बताने वाले हैं।

क्रिप्टोकरेंसी क्या है?

क्रिप्टो करेंसी एक प्रकार की डिजिटल मनी है, जिसका उपयोग डिजिटल प्लेटफार्म पर ही किया जाता है। विशेषज्ञों का तो यह भी मानना है कि डिजिटल मनी अर्थात  क्रिप्टोकरंसी का भविष्य बहुत आगे तक है। क्रिप्टो करेंसी एक प्रकार के वर्चुअल करेंसी है, जिसे डिजिटल मनी के नाम से भी जाना जाता है।

‘क्रिप्टो’ का अर्थ होता है अदृश्य और ‘करेंसी’ का अर्थ होता है मुद्रा। क्रिप्टो करेंसी का सीधा-सीधा अर्थ है वह अदृश्य मुद्रा, जिसका इस्तेमाल तो किया जा सकता है परंतु उसे देखा नहीं जा सकता। क्रिप्टो करेंसी का निर्माण करने के लिए जिस  विधि का उपयोग किया गया है उसे क्रिप्टोग्राफी कहते हैं। सर्वप्रथम क्रिप्टो करेंसी को वर्ष 2009 में दुनिया के सामने प्रस्तुत किया गया था।

फिजिकल करेंसी जैसे कि हमारे भारतीय मुद्रा सिक्कों तथा नोटों के रूप में उपलब्ध  होते हैं वैसे ही बात करें क्रिप्टो करेंसी की तो यह फिजिकली उपलब्ध नहीं होती है। Cryptocurrency को मैनेज करने के लिए एक प्रकार का सॉफ्टवेयर प्रोग्राम होता है, जहाँ Cryptocurrency ऑनलाइन स्टोर किया जाता है या रखा जाता है लेकिन इसे सिक्के या नोटों की तरह छुआ नहीं जा सकता। इस तकनीक को Decentralized peer to peer transaction technique कहते हैं। इस करेंसी को डिजिटल वॉलेट में स्टोर किया जाता है। इसलिए इसे ऑनलाइन मनी भी कहा जाता है। यह ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पर आधारित होती है।

Cryptocurrency का उपयोग बहुत ही सरलता से किया जाता है। Cryptocurrency को ट्रांसफर करने के लिए बिना किसी बैंक की सहायता से हम इसका ट्रांजैक्शन कर सकते हैं। इसका ट्रांजैक्शन कंप्यूटर या मोबाइल या लैपटॉप की मदद से किया जा सकता है।

जैसा कि हम जानते हैं हमारे भारतीय मुद्रा रुपया , यूरोप की मुद्रा यूरो यूएसए की मुद्रा डॉलर आदि पर सरकार तथा बैंक का कंट्रोल होता है परंतु क्रिप्टो करेंसी में सरकार तथा बैंक का कोई हस्तक्षेप नहीं होता है। यह पूरी दुनिया में इस्तेमाल किया जाता है।

वर्तमान समय में पूरे विश्व में 5000 से भी ज्यादा क्रिप्टो करेंसी उपलब्ध है। क्रिप्टो करेंसी की दुनिया में सबसे पहला नाम बिटकॉइन का ही है जो कि सबसे पॉपुलर और लोकप्रिय क्रिप्टो करेंसी है। क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज में ऑनलाइन वॉलेट मतलब की डिजिटल वॉलेट बनाया जाता है और इसे User के बैंक अकाउंट से लिंक किया जाता है। हम जब भी क्रिप्टो करेंसी खरीदते हैं तो उसे ऑनलाइन वॉलेट में स्टोर किया जाता है। Coinswitch App और CoinDcx App को हमारे देश में ज्यादा पसंद किया गया है और यह लोगों के बीच लोकप्रिय बना हुआ है। चलिए आगे बढ़ते हुए हम आपके साथ कुछ और जानकारी साझा करते हैं।

यह भी परे:

क्रिप्टोकरेंसी का मूल्य क्या होता है?

हम सभी जानते हैं कि पूरे विश्व में बहुत सारे देश हैं और सभी देशों की मुद्राएं अलग-अलग है। जिस प्रकार सभी देशों की करेंसी अलग अलग होती है, जैसे कि रुपया, डॉलर, येन, यूरो आदि की वैल्यू अलग होती है, उसी प्रकार क्रिप्टो करेंसी की भी एक अलग वैल्यू होती है। क्रिप्टो करेंसी की वैल्यू हमारे देश की करेंसी की वैल्यू से कई गुना ज्यादा है।

Cryptocurrency की वैल्यू में समय-समय पर कई प्रकार के उतार-चढ़ाव आते रहते हैं। जानकारी के लिए बता दें कि क्रिप्टो करेंसी की वैल्यू कभी भी स्थिर नहीं होती है बल्कि इसमें बदलाव होते रहते हैं। इसलिए इसकी कीमत में इसके मूल्य में समय-समय पर प्रति मिनट बदलाव देखने को मिलते हैं।

क्रिप्टो करेंसी वॉलेट किसे कहते हैं?

जिस प्रकार हमें अपने पैसों को रखने के लिए पर्स, वॉलेट, लॉकर आदि की आवश्यकता होती है उसी प्रकार क्रिप्टो करेंसी को स्टोर करने के लिए वॉलेट की आवश्यकता पड़ती है। यह बहुत ही आसानी से ऑनलाइन उपलब्ध होता है। इसे हम हार्ड ड्राइव या यूएसबी ड्राइव (USB Drive) में स्टोर कर सकते हैं ।

क्रिप्टो करेंसी को स्टोर करने के लिए एक अच्छा और सेफ वॉलेट के ऑप्शन का चुनाव करना आवश्यक है। वॉलेट के माध्यम से हम क्रिप्टो करेंसी सेंड और रिसीव कर सकते हैं अर्थात वॉलेट हमारे लिए ट्रांजैक्शन का एक बेहतर माध्यम होता है।

क्रिप्टो करेंसी कितने प्रकार के होते हैं?

विश्व भर में 5000 से भी ज्यादा क्रिप्टो करेंसी मौजूद है। दुनिया में ऐसे बहुत से लोग हैं जो अब क्रिप्टो करेंसी में अपने पैसों को इन्वेस्ट करने लगे हैं। क्रिप्टो करेंसी कुल 5000 से भी ज्यादा है, जिसमें से कुछ लोकप्रिय क्रिप्टो करेंसी के बारे में हमने बताया गया है। आगे हम कुछ लोकप्रिय क्रिप्टो करेंसी के बारे में बात करेंगे, जो निम्नलिखित हैं –

[ 1 ]Bitcoin (BTC)

Bitcoin विश्व की सबसे पहली और अब तक की सबसे Popular क्रिप्टो करेंसी है। वर्ष 2009 में इसका निर्माण संतोषी नाकामोतो ने किया था। बिटकॉइन बहुत ही कम वक्त में अपनी वैल्यू को बढ़ा चुका है। वर्तमान समय में एक बिटकॉइन का मूल्य 37 लाख से भी ज्यादा है।

[ 2 ] Litecoin (LTC)

Litecoin भी एक प्रकार की वर्चुअल मनी है। यह एक decentralized peer to peer currency है। Litecoin का उपयोग Instant Basis पर Peer to Peer पेमेंट Transaction के लिए होता है। Charlie Lee के द्वारा इसका निर्माण वर्ष 2011 में किया गया था।

वर्तमान समय में पूरे विश्व में बिटकॉइन से  अपेक्षाकृत ज्यादा इसका उपयोग किया जाता है। इसके ट्रांजैक्शन में समय काफी कम लगता है तथा इसके कुछ Features बिटकॉइन के Features से काफी मिलते हैं।

[ 3 ] Ethereum (ETH)

जिस प्रकार बिटकॉइन एक प्रसिद्ध क्रिप्टोकरंसी है, उसी प्रकार Ethereum भी एक फेमस वर्चुअल करेंसी है। Vitalik Buterin ने वर्ष 2015 में इसका निर्माण किया था। इसे एक अन्य नाम Ether से भी जाना जाता है। वर्तमान समय में बिटकॉइन के बाद दूसरी सबसे Popular करेंसी Ethereum ही है। Decentralised blockchain technique के Basis पर यह कार्य करती है।

[ 4 ] Dogecoin (DOGE)

Dogecoin फिलहाल काफी चर्चा का विषय बनी हुई है। इसे वर्ष 2013 में Jackson Palmar एवं Billy Markus ने मिलकर बनाया था। इस करेंसी को उन लोगों ने मजाक मजाक में बनाया था, जो आगे चलकर काफी पॉपुलर हुई और इसमें लोग इन्वेस्ट करने लगे। जिसकी वैल्यू में देखते ही देखते वृद्धि हो गई। इसको सपोर्ट करने के लिए फेमस Business men एलोन मस्क ने भी इसमें Invest किया। Dogecoin ने काफी कम समय में अपना स्थान बाजार में स्थापित कर लिया। पिछले कई सालों में इसकी वैल्यू काफी तेजी से बढ़े हैं।

क्रिप्टो करेंसी के फायदे और नुकसान क्या हैं?

क्रिप्टो करेंसी के फायदे की बात की जाए तो इसके फायदे को निम्नलिखित रूप से देख सकते हैं –

  1. यदि हम दूसरे पेमेंट ऑप्शन की बात करें तो इसके ट्रांजैक्शन फीस अपेक्षाकृत कम है।
  2.  क्रिप्टो करेंसी में धोखे की आशंका कम होती है।
  3. अन्य प्लेटफार्म के अपेक्षाकृत इसमें अकाउंट safe है क्योंकि इसमें भिन्न प्रकार की क्रिप्टोग्राफी एल्गोरिथमि का उपयोग किया जाता है।
  4. क्रिप्टो करेंसी में केंद्र सरकार, राज्य सरकार या किसी बैंक का कोई हस्तक्षेप नहीं होता है। इसकी ट्रांजैक्शन के लिए किसी के आदेश की कोई आवश्यकता नहीं होती है।
  5. क्रिप्टो करेंसी एक प्रकार के वर्चुअल करेंसी है जो अपेक्षाकृत सुरक्षित है।

क्रिप्टो करेंसी के जहां एक तरफ कई फायदे नजर आते हैं वहीं इसके कुछ नुकसान भी हैं जो निम्नलिखित हैं –

  1. यह एक प्रकार की वर्चुअल करेंसी है, जो डाटा ऑनलाइन माध्यम में store करती है। इसीलिए इसे हैक कर पाना संभव है ।
  2. इस वर्चुअल करेंसी में रिवर्स ट्रांजैक्शन की कोई सुविधा नहीं होती है अर्थात एक बार ट्रांजैक्शन कर दिया गया, तो उसे वापस नहीं लिया जा सकता है।
  3. क्रिप्टो करेंसी की वैल्यू में किसी का भी कंट्रोल नहीं होता है। इसकी वैल्यू में कभी भी उछाल तथा गिरावट आ सकती है।
  4. यदि आपके वॉलेट आईडी खो जाती है तो इसे दोबारा पाना मुश्किल होता है। इसीलिए आपके वॉलेट में जो भी पैसे हैं वह हमेशा के लिए खो जाते हैं ।

क्रिप्टो करेंसी से पैसे कैसे कमाएं?

जैसा कि हमने आपको ऊपर की दी गई जानकारी में बताया कि बिटकॉइन क्रिप्टो करेंसी का एक महत्वपूर्ण प्रकार है और साथ ही साथ लोकप्रिय भी, तो इसी के साथ बता दें कि यदि सवाल उठता है क्रिप्टो करेंसी से पैसे कैसे कमाएं? जानकारी के लिए बता दें बिटकॉइन जैसे लोकप्रिय क्रिप्टो करेंसी की वैल्यू लाखों रुपए से कहीं ज्यादा होती है‌। इसमें ट्रेडिंग और इन्वेस्टमेंट करके अच्छी कमाई की जा सकती है। इसका मतलब है कि आप इसका इस्तेमाल करके अच्छी खासी कमाई कर सकते हैं। इसकी मदद से आप अपने रोजमर्रा की जरूरतों को पूरा कर सकते हैं। इसका उपयोग किसी वस्तु को खरीदने में भी किया जा सकता है।

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो हमें Google News पर फॉलो करें।